Monthly Archives

August 2021

श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की वात्सल्यमय शुभकामनाएं

By ChikitsalayaNo Comments

भारतीय जीवन दर्शन का परम एवं चरम सुख है, कृष्णमय होने का प्रयास करना। भारतीय आध्यात्म में जहाँ राम मर्यादाओं की अनगिनत डोर थाम बंध जाने का पर्याय हैं, कृष्ण बंधन तोड़ने की अप्रतिम शांति हैं। कृष्ण आये ही थे सबके बंधन तोड़ने। बंधन छद्म स्वार्थ का, संसार के मोह का, सुखों की अतृप्त तृष्णा का। कृष्ण जहाँ गए, बंधन तोड़ जीने की ध्यातव्य शिक्षा देते रहे। अपने विचारों, क्रियाओं और मानकों के उच्चस्थ प्रतिमानों को उन्होंने उन्मुक्त होकर गढ़ा।

अवतरित होते ही माँ देवकी और पिता वासुदेव जी के बंधन काट दिए। प्रेम के मानकों को देहविहीन बनाने हेतु मोरपंख को अपने शिरोधार्य किये। प्रेम अपनी श्रेष्ठतम अवस्था में मोर-मोरनी को प्राप्त करता है। लोक किंवदंतियों के अनुसार, बारिश में मोर के मुंह से गिरा हुआ पदार्थ खाकर मोरनी गर्भ धारण कर लेती है। वैज्ञानिक दृष्टिकोण चाहे कुछ भी रहे, लोक कथा के अनुसार, यही सत्य है, और भाव के आँगन में विज्ञान कहाँ ठहरता है? आध्यात्म अपने आप में सम्पूर्ण विज्ञान है और प्रेम की इसी परंपरा को आदर्श बनाने हेतु कृष्ण मोरपंख धारण किये हुए हैं।

कृष्ण का अवतार कारावास में इसी ध्येय से हुआ होगा। संसार को दासता के बंधनों से मुक्त करने को मामा कंस को गोलोकधाम पहुंचा दिया। उस प्रयास में कितने ही योद्धाओं को उस बांसुरी वाले ग्वाले ने धूल में मिला धूल कर दिया, वो भी अकेले। न कोई सेना, न कोई राजसी सहायता। ये कृष्ण होने की सामर्थ्य का संदेश था। कल का नटखट कान्हा, आज महावीर कंसजीत हो चुका था।

राधा को अपने गोकुलवासी साधारण कान्हा के साथ से आनंदित किया तो रुक्मणी को अपने महाराज द्वारिकाधीश रूप से। रुक्मणी को ग्वाला कान्हा की हंसी ठिठोली और माखन को मचलते रूप के दर्शन सदा दुर्लभ ही रहे तो राधा को ब्रह्माण्डनायक, महाराज द्वारिकाधीश से दूर रखा।

दैत्य नरकासुर की कैद से सोलह हजार बलत्कृत एवं परित्यक्त महिलाओं को सम्मान सहित अपनी रानी बनने का गौरव मेरे कान्हा के सिवा और कौन दे सकता था? उस नारकीय जीवन से इस सम्मान से सुसज्जित होने की अनंत आनंदकारी यात्रा का नाम ही है कृष्ण। ऐसा महानारिवादी विश्व में कोई और कहाँ हो सका? आत्मग्लानि के बंधन काटता है वो है कृष्ण।

जनमानस को प्रकृति से प्रेम करना भी तो कान्हा ने ही सिखाया। इंद्रदेव को रुष्ट कर, गोवर्धन पर्वत को जो पूजित करा दे वो कृष्ण, जिसने पर्यावरण सुरक्षा की महत्ता को भी दृष्टिगोचर किया होगा।

दुर्योधन की मेवाओं के अनुपम स्वाद को छोड़ विदुरानी के हाथ केले के छिलके खाने वाला कान्हा अपने संबंधियों के विरुद्ध धर्मयुद्ध को अपने मित्र अर्जुन को शिक्षोपदेश गीता जैसा महाकाव्य रच देता है। साधारण वार्तालाप का ऐसा काव्यात्मक वर्णन कि आने वाले हजारों वर्षों तक गीता मानव को मार्गदर्शित करती रहे। विदुराणी को कान्हा के आने का संदेह था लेकिन मन के कोने में एक आस भी थी कि कान्हा हस्तिनापुर आया है तो किंचित मिलने ही आ जाये। कान्हा अब राजनयिक के रूप में हैं, उनसे मिलने अनगिनत लोगों की भीड़ आई होगी, वो मुझसे मिलने क्यूँ आएगा।

इन्हीं वैचारिक उधेडबुनों में विदुराणी को मौसी की आवाज लगाता कान्हा पुकारता है। अपने श्रवण पर संदेह कर जाती हैं विदुराणी। भला जिसके दर्शनों को सारा हस्तिनापुर आ गया हो, वो मेरे लिए समय कहाँ निकाल सकेगा? अरे !! विदुराणी आश्चर्य एवं प्रसन्नता का कोई ओर छोर न था, मौसी कुछ खिला दे, सुबह से भूख लग रही है।

ये है मेरा कान्हा! इतना प्रेम, इतना विश्वास, इतनी श्रद्धा कि सम्पूर्ण संसार के छप्पन भोग को त्याग वो साधारण सा साग विदुर जी के घर खाता है।

कान्हा के लिए कौरवों से राजपाट ले पांडवों को सौंप देना कौन सा बड़ा कार्य था? वो चाहते तो क्षणभर में उस कुल का नाश कर देते जिसमें उनकी सखी, भक्त द्रौपदी का अपमान हुआ? लेकिन कान्हा को जनमानस को संदेश देना था। संदेश नारी के सम्मान की महत्ता का, संदेश नारी को भोग्य पदार्थ समझ लेने की धृष्टता का। पांडवों को द्रौपदी को दांव पर लगाने का दंड मिलना ही था, इसीलिए अर्जुन से धर्मराज तक को उस कसौटी पर कसा गया। धर्मयुद्ध करना पड़ा, अपनों के विरुद्ध, उस कुकृत्य के प्रायश्चित का ये कैसा उपाय था कान्हा? पूछा होगा अर्जुन ने भी। कान्हा ने हंस कर कहा,

“नारी के अपमान का हश्र यही होता है पार्थ! संपूर्ण कुल का विनाश ! यही सनातन की विशिष्टता है, नारी हमारे जीवन के केंद्र में है, सम्मान की सर्वोच्च उपमा, नारी होना है। वो मातृशक्ति है, प्रकृति है, जगतकल्याण की भावना वही है। नारी, इसीलिए जहाँ उसका सम्मान होगा, वहां देवताओं के निवास का विधान है पार्थ!”

कान्हा – विश्व का सर्वश्रेष्ठ नीतिनिर्धारक, मित्र, सारथी, महामानव, जो मित्रता करे तो ऊंच नीच के भाव त्याग दे। बड़े-छोटे के बंधन वो सुदामा से मित्रता कर तोड़ता है तो उसके उच्चतम आदर्श की प्रतिष्ठापना उन्हें अपने राजमहल में सम्मान देकर, उनके पैरों को अपने आंसुओं से धोकर करते हैं। उनके तीन मुट्ठी चावल के बदले उन्हें अनुपम प्रासाद, मणि माणिक्य, स्वर्णादि मुद्रा भंडार की भेंट देता है। सृजन और विनाश को अपने दोनों भुजाओं में लेकर चलने वाला कान्हा जब सृजित करे तो द्वारिका सी महानगरी स्थापित करे, विनाश पर आये तो अपने ही कुल का संहार कर दे।

कान्हा जी के जन्माष्टमी महापर्व की अशेष शुभ मङ्गलकामनाएं !!

वन्दे कृष्णं जगद्गुरुम!!

राजनीति के बाबूजी: आदरणीय श्री कल्याण सिंह जी को श्रद्धांजलि

By ChikitsalayaNo Comments

भारत की राजनीति का केंद्रबिंदु, पिछले तीन दशक से अयोध्या रही है। कभी इक्ष्वाकु वंश की राजधानी कालांतर में इतनी महत्वपूर्ण होगी, सतयुगीय भगवान श्रीराम चंद्रजी जी ने भी सोचा होगा? अयोध्या को उसका वास्तविक स्वरुप मिलने को है, राममंदिर अपनी दिव्य भव्यता के लिए अगले कुछ वर्षों में पहचाना जाएगा। विश्व पर्यटन के मानचित्र पर अयोध्या एक नवांकुर है जो पुष्पित, पल्लवित होकर राजकोष को राजस्व की सुगंध से महका देगा, जिसके कारण विकासकार्य निर्बाध रूप से आगे बढ़ेंगे। अयोध्या का अर्थ विकास और प्रगति होगा।

लेकिन अयोध्या के इस स्वप्नरूप के मूर्तरूप में परिवर्तित होने का सबसे बड़ा श्रेय जिन आदरणीय कल्याण सिंह जी को जाता है, उनका कल यानी 22 अगस्त को निधन हो गया। भारतीय राजनीति के बाबूजी चले गए। वे 89 वर्ष के थे। लखनऊ के संजय गाँधी पीजीआई में भर्ती थे। उन्हें संक्रमण एवं सांस लेने में तकलीफ की शिकायत थी।

श्री कल्याण सिंह जी

विभिन्न राजनितिक हस्तियों, जिनमें राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, गृहमंत्री, रक्षामंत्री आदि ने शोकसंवेदनाएँ प्रकट कर उनके जाने को दुखद बताया। उत्तर प्रदेश में तीन दिवसीय राजकीय शोक की घोषणा की गई है।

बेहद सुलझे हुए एवं शिक्षा में शुचिता के विचारक श्री कल्याण सिंह जी ने नकलविहीन परीक्षा की संकल्पना की और परीक्षाओं में नक़ल रोकने को सारा प्रशासनिक अमला लगा दिया। ये सम्मान था, मेहनत का, शिक्षा को विद्या समझने का, ईमानदारी और स्वाभिमान के भावों को इससे बेहतर कोई कैसे सम्मानित कर सकता था।

आदरणीय कल्याण सिंह जी की एक और पहचान थी, जिसके लिए वो सदैव गौरवान्वित रहते थे। राम कारज हेतु उन्होंने अपनी सरकार का त्यागपत्र तक सौंप दिया लेकिन रामभक्तों पर गोलीबारी नहीं होने दी। इस आदेश के कारण उन्होंने ढांचा गिरने की जिम्मेदारी भी खुद ओढ़ ली। अपनी जिम्मेदारी मानते हुए, जेल भी गए लेकिन राममंदिर निर्माण का ध्येय जीवनभर ह्रदय में धारण किये रहे। कल्याण सिंह का जन्म 5 जनवरी 1932 को उत्तरप्रदेश के अतरौली में हुआ था. उनके पिता का नाम तेजपाल सिंह लोधी और मां का नाम सीता देवी था।

वृन्दावन के वात्सल्यग्राम की स्थापना में श्री कल्याण सिंह जी का अहम योगदान रहा। समाज की सेवा के इस अग्रणी प्रकल्प के संकल्पों को देखते हुए आदरणीय श्री कल्याण सिंह जी ने कानूनी जटिलताओं के समाधान में अग्रणी भूमिला निभाई।

श्री कल्याण सिंह जी

एक अग्रणी जननायक, नक़ल जैसी छोटी किन्तु चिंचित करती सामाजिक बुराइयों को दूर करते जननायक, अतुलित रामभक्त, पूर्व मुख्यमंत्री श्री कल्याण सिंह जी को वात्सल्य परिवार की ओर से अश्रुपूरित श्रद्धांजलि।

विश्व संस्कृत दिवस की शुभकामनाएं

By ChikitsalayaNo Comments

संस्कृत भारतीय संस्कृति की परिचायक भाषा है। संस्कृत एक परिष्कृत, वैज्ञानिक एवं संस्कारित भाषा है। आदिसंस्कृति की परिचायक संस्कृत विश्व की प्राचीनतम भाषाओँ में से एक है। इसका अपना स्वविकसित शब्दकोष है जिसमें १०० अरब से अधिक शब्द हैं। भारत की प्राचीनतम भाषा संस्कृत में भारत का सर्वस्व संन्निहित है। देश के गौरवमय अतीत को हम संस्कृत के द्वारा ही जान सकते हैं। संस्कृत भाषा का शब्द भण्डार विपुल है। यह भारत ही नहीं अपितु विश्व की समृद्ध एवं सम्पन्न भाषा है। भारत का समूचा इतिहास संस्कृत वाड्मय से भरा पड़ा है। आज प्रत्येक भारतवासी के लिए विशेषकर भावी पीढ़ी के लिए संस्कृत का ज्ञान बहुत ही आवश्यक है।

संस्कृत भाषा का अपना एक वैज्ञानिक महत्व है। नासा के वैज्ञानिकों के अनुसार संस्कृत एक सम्पूर्ण वैज्ञानिक भाषा है। प्राचीन भारत में बोल-चाल की भाषा में संस्कृत का ही उपयोग किया जाता था। इससे नागरिक अधिक और मानसिक रूप से अधिक संतुलित रहा करते थे। संस्कृत के मंत्रों का उच्चारण करते समय मानव स्वास्थ्य पर विशेष प्रभाव पड़ता है। मंत्रोच्चार के समय वाइब्रेशन से शरीर के चक्र जागृत होते हैं और मानव का स्वास्थ्य बेहतर रहता है। बहुत सी विदेशी भाषाएं भी संस्कृत से जन्मी हैं। फ्रेंच, अंग्रेजी के मूल में संस्कृत निहित है। संस्कृत में सबसे महत्वपूर्ण शब्द ‘ऊँ’ अस्तित्व की आवाज और आंतरिक चेतना एवं ब्रम्हाण्ड का स्वर है। प्राचीन धरोहर की खोज करने का मुख्य मापदण्ड संस्कृत है। संस्कृत की महत्ता को देखते हुए जर्मनी में 14 से अधिक विश्व विद्यालयों में संस्कृत का अध्ययन कराया जाता है।

संस्कृत विश्व की सबसे वैज्ञानिक भाषा है।नासा के वैज्ञानिकों के अनुसार संस्कृत आर्टिफिशयल इंटेलीजेस को नया आयाम देगी। विश्व संस्कृत दिवस पर आत्मीय बधाई।

इतिहास के माथे पर वीरता का तिलक: काकोरी कांड

By UncategorizedNo Comments

९ अगस्त १९२५ सिर्फ एक तारीख नहीं, इतिहास के सबसे रौशन दस्तावेजों पर वीरता का हस्ताक्षर है। उस रात आसमान में तारे कुछ ज्यादा टिमटिमा रहे थे। रात कुछ उजली सी थी, तारे मानो इंतजार में पलकें बिछाये थे, उस घटना के, जिसने अंग्रेजों की चूलें हिला कर रख दी थीं। ये घटना काकोरी कांस्पीरेसी के नाम से लिखी, पढ़ी गई लेकिन ये घटना राष्ट्र चेतना को जगाने वाली साबित हुई।


असहयोग आंदोलन की वापसी के बाद कांग्रेस दो गुटों में बंट गई थी। इसमें से कुछ युवाओं ने हिंदुस्तान रिपब्लिकन एसोसिएशन की नींव रखी जिसमें रामप्रसाद बिस्मिल और सचिंद्र नाथ सान्याल प्रमुख थे। यह दल अंग्रेजी हुकूमत को भारत छोड़ने पर विवश करना चाहता था। पंडित रामप्रसाद ‘बिस्मिल’, अशफ़ाक़ उल्लाह खान, सच्चिन्द्रनाथ सान्याल, चंद्रशेखर आज़ाद, राजेन्द्रनाथ लाहिरी इनमें प्रमुख सदस्य थे।


इस दल की विचारधारा स्पष्ट थी। हिंसा को रोकने का उपाय, प्रत्युत्तर में की गई अधिक हिंसा ही है। अंग्रेजों से डरे हुए हिन्दुस्तानियों का डर, अंग्रेजों के मन में भर, उन्हें भगाना इनका मकसद था। १९२५ तक अनेकों क्रियाकलापों के माध्यम से इस दल ने अंग्रेजों को समझाने का प्रयास किया कि भारत का युवा अब उठ खड़ा हुआ है। वो ‘टिट फॉर टैट’ की नीति में विश्वास रखता है।

विश्व का प्रत्येक युद्ध और उसका नीति निर्धारण ‘अर्थ’ तय करता है। हथियारों की व्यवस्था से रसद के सामान तक, प्रशिक्षण से आधुनिकीकरण तक, ‘अर्थ’ सबसे प्रमुख भूमिका निभाता है। भारत के भाग्य का निर्धारण करने वाला पानीपत का अंतिम युद्ध इसका सबसे बड़ा प्रमाण है जहाँ मराठों ने अब्दाली से भूखे पेट लड़ाई लड़ी थी। दूसरी ओर अब्दाली को इस संकट का सामना नहीं करना पड़ा, जिससे इस युद्ध का परिणाम निश्चित हो गया था।


हिंदुस्तान रिपब्लिकन एसोसिएशन को हथियारों के लिए धन की कमी पड़ने लगी तो बैठक बुलाई गई, विचार विमर्श हुआ, तय किया गया कि हिंदुस्तानी पैसे का इस्तेमाल हिंदुस्तान की आज़ादी में होगा। उन नरसिंहों ने अंग्रेजों के कब्जे में भारतीय खजाने को छीन लेने की योजना बनाई। इसी घटना को काकोरी कांड के नाम से जाना जाता है।

काकोरी: गर्व है


सहारनपुर से लखनऊ जाने वाली ट्रेन में जाने वाले खजाने को छीन लेने की योजना पर काम शुरू हुआ। राम प्रसाद बिस्मिल, अशफाकउल्ला खान, राजेंद्र लाहिड़ी, चंद्रशेखर आजाद, सचिंद्र बख्शी, केशव चक्रवर्ती, मनमथनाथ गुप्ता, मुरारी लाल गुप्ता (मुरारी लाल खन्ना), मुकुंदी लाल (मुकुंदी लाल गुप्ता) और बनवारी लाल काकोरी कांड में शामिल प्रमुख क्रांतिकारी थे।


काकोरी काण्ड के उद्देश्य

काकोरी कांड का उद्देश्य एक क्रांति के माध्यम से भारत को ब्रिटिश औपनिवेशिक शासन से मुक्त करना था जिसमें सशस्त्र विद्रोह शामिल था। बल के माध्यम से ब्रिटिश प्रशासन से धन लेकर एचआरए के लिए धन प्राप्त करना, भारतीयों के बीच हिंदुस्तान रिपब्लिकन एसोसिएशन की सकारात्मक छवि बनाना और न्यूनतम क्षति के साथ एक ब्रिटिश सरकार पर हमला करना इस दल के प्रमुख उद्देश्य थे।


काकोरी कांड घटनाक्रम


लूट की योजना राम प्रसाद बिस्मिल और अशफाकउल्लाह खान ने बनाई थी। इसे बिस्मिल, खान, चंद्रशेखर आजाद, राजेंद्र लाहिड़ी, शचींद्र बख्शी, केशव चक्रवर्ती, मुरारी लाल खन्ना (गुप्ता), बनवारी लाल, मुकुंदी लाल गुप्ता और मनमथनाथ गुप्ता ने अंजाम दिया था। निशाने पर गार्ड केबिन था, जो लखनऊ में जमा किए जाने वाले विभिन्न रेलवे स्टेशनों से एकत्र किए गए धन को ले जा रहा था। हालांकि क्रांतिकारियों द्वारा किसी भी यात्री को निशाना नहीं बनाया गया था, लेकिन गार्ड और क्रांतिकारियों के बीच गोलीबारी में अहमद अली नाम का एक यात्री मारा गया था। इससे यह हत्या का मामला बन गया।


८ अगस्त १९२५: हथियार खरीदने के लिए सरकारी खजाने को लूटने का फैसला बैठक में लिया गया।
९ अगस्त १९२५: क्रांतिकारियों ने सहारनपुर से लखनऊ के लिए काकोरी के पास नंबर 8 डाउन ट्रेन को रोका और गार्ड केबिन से 8000 रुपये लूट लिए। ब्रिटिश प्रशासन ने क्रांतिकारियों को गिरफ्तार करने के लिए एक अभियान शुरू किया।
२६ सितंबर १९२५: राम प्रसाद बिस्मिल को औपनिवेशिक अधिकारियों ने गिरफ्तार किया। मुकदमा २१ मई १९२६ को ए.हैमिल्टन के सत्र न्यायालय में आगे बढ़ता है।
१९२६: अशफाकउल्ला खान और शचींद्र बख्शी को मुकदमे की समाप्ति के बाद गिरफ्तार किया गया।


घटना के बाद कई क्रांतिकारी लखनऊ भाग गए। आधिकारिक रिकॉर्ड के अनुसार, मुकदमे के दौरान ४० लोगों को गिरफ्तार किया गया था। चंद्रशेखर आजाद, जिन्हें पकड़ा नहीं जा सका, ने एचआरए को पुनर्गठित किया और १९३१ तक संगठन चलाया। २७ फरवरी को पुलिस के साथ गोलीबारी में उन्होंने गंभीर रूप से घायल होने के बाद खुद को गोली मार ली।


काकोरी कांड ब्रिटिश औपनिवेशवाद के चेहरे पर पड़ा एक करारा थप्पड़ था, जिसने उनकी ‘अहम ब्रह्मास्मि’ वाली मानसिकता को चोट पहुंचाई। इस घटना ने अनेकों युवाओं को क्रांतिकारी विचारों के साथ जोड़ा।


काकोरी कांड का अंतिम फैसला जुलाई १९२७ में सुनाया गया था। अदालत ने सबूतों के अभाव में लगभग १५ लोगों को छोड़ दिया था। राम प्रसाद बिस्मिल, अशफाकउल्लाह खान, ठाकुर रोशन सिंह, राजेंद्र लाहिड़ी को मौत की सजा दी गई। जबकि सचिंद्र बख्शी और सचिन्द्र नाथ सान्याल को पोर्ट ब्लेयर, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह में सेलुलर जेल में निर्वासन की सजा सुनाई गई थी।


काकोरी कांड एक ऐतिहासिक हस्ताक्षर है अन्याय के विरोध में डटकर खड़े होने की। हिंसा के प्रत्युत्तर में इक्वल एंड अपोजिट रिएक्शन की। स्वाभिमान से चलने और सबका सम्मान करने का सबक याद कराने की।

आज काकोरी कांड की ९६वीं वर्षगाँठ पूरे देश में मनाई गई। इन क्रांतिवीरों को श्रद्धासुमन अर्पित किये गए। इन वीर नरसिंहों को वात्सल्य परिवार का शत शत नमन।

संघर्ष से गौरव की यात्रा है ये स्वर्ण

By UncategorizedNo Comments

स्वर्ण – मानव समाज की सर्वप्रिय धातु। स्वर्ण मात्र एक धातु ही नहीं है, मानव समाज के गौरव का प्रतीक भी रहा है। परिवर्तनशील इस विश्व में, इस धातु के प्रति आसक्ति ही है जो आदि काल से परिवर्तित न हो सकी। आभूषणों से महिलाओं के सौंदर्य में अगणित वृद्धि मानी जाती है तो यहाँ भी स्वर्ण का प्रयोग ही सर्वाधिक होता है।

सोने की लंका से सोने के तमगे तक का सफर, मानव समाज के तमाम आयामों को खुद में समेटे हुए है। इस कालखंड में मानव समाज प्रगतिपथ पर बढ़ा या निम्नता के नित नए कीर्तिमान गढ़ता रहा, ये विमर्श का विषय है।

इसी बीच, खेलों के महाकुंभ, ओलंपिक में, भालाफेंक प्रतियोगिता में एक युवा अपने देश के लिए स्वर्णपदक लाता है। हो सकता है कि हमें लगे कि इसमें नया क्या है। अनेकों प्रतिभागियों को स्वर्ण मिला है, चीन से अमरीका तक की झोलियाँ भर गईं हैं तो इस एक पदक का इतना महिमामंडन क्यूँ?

जी, इस विजय में भी कुछ अनूठा नहीं है। किसी न किसी को तो जीतना ही था। तो नीरज चोपड़ा ने विजयश्री का वरण किया। निश्चित रूप से यहाँ तक आने के क्रम में हमारे विचारों से बहुत उच्च स्तर की मेहनत रही है, किस्मत भी, लेकिन यकीन जानिए, ये विजय बहुत ख़ास है। आइये, जानते हैं कारणों को जिन्होंने इस युवक को सवा सौ करोड़ लोगों को उत्सव का एक पर्व दे दिया। मनाइये, क्यूंकि इस विजयश्री का वरण अन्य तमाम विजेताओं जैसा नहीं है। कुछ अलग, कुछ खास है।

१. एथलेटिक स्पर्धा में प्रथम पदक – वो भी स्वर्ण
भारत के ओलंपिक खेलों में प्रतिभागिता के इन तमाम वर्षों में एथलेटिक स्पर्धा में ये पहला पदक है ,पहला ही स्वर्ण है। देर हुई है लेकिन शुरुआत बहुत शानदार हुई है।

२. प्राकृतिक रूप से कठिन था जीतना
भालाफेंक एक ऐसी प्रतियोगिता है जिसमें कई तथ्य देखने होते हैं। भालाफेंक में खिलाडी की ऊंचाई और वजन का बहुत महत्व होता है। भाले का रिलीज़ पॉइंट, रिलीज़ एंगल भी अहम भूमिका निभाता है। हवा के विपरीत दिशा में रिलीज़ एंगल ३४ डिग्री से कम रखना होता है। नीरज ने अपनी दौड़ तेज की, एंगल बदला और उनके भाले की दूरी बढ़ गई।
यहाँ ये भी दृष्टिगोचर है कि ९७ मीटर का रिकॉर्डधारी खिलाडी वेटल भी इन्हीं तथ्यों के कारण ८२ मीटर तक जा सका और हार गया।

३. मेहनत, समर्पण और जूनून
अपनी सफलता में व्यवधान उत्पन्न न होने के लिए, नीरज ने अपना संपर्क लोगों से लगभग ख़त्म कर लिया था। सारा ध्येय, उद्देश्य से सफलता की यात्रा पर रहा और सफलता का वरण कर लिया।

४. खेल मतलब क्रिकेट
भारतीय उपमहाद्वीप में खेलों का अर्थ, क्रिकेट तक ही सीमित है। ऐसे में भालाफेंक जैसी मेहनतकश प्रतियोगिता में भाग लेना बहुत बड़ी बात है। इस स्वर्णपदक से निश्चित तौर पर लोगों का ध्यान भालाफेंक और गोलाफेंक जैसी प्रतियोगिताओं पर केंद्रित होगा, कुछ अच्छे एथलीट आगे आएँगे और देश के मैडल बढ़ेंगे।

५. उम्र
जिस उम्र में लोग प्रेम प्रसंगों से लेकर कविताओं के खुमार में होते हैं, नीरज ओलंपिक चैंपियन बन चुके हैं। ये सफलता उन लोगों के लिए एक प्रेरणा है जो अपनी कम उम्र का बहाना बनाकर गलत राह चुन लेते हैं। ये प्रेरणा उन लोगों के लिए भी है जिसमें लोग कहते हैं कि भारतीय समाज में ३० वर्ष की आयु तक ‘करना क्या है’ इसकी भी जानकारी लोगों को नहीं हो पाती।
इस उम्र में बहकने का, फिसलने का और कहीं और निकल जाने की तमाम शंकाओं को निराधार किया है इस नवप्रदीप्त सूर्य नीरज ने।

ओलिंपिक मात्र एक स्पोर्टिंग इवेंट नहीं है, ये अपने सामर्थ्य और शक्ति से जगत को अवगत कराने का महापर्व है। इसमें निरंतरता, कड़ी मेहनत और हार न मानने वाले तेवर के जीतने का उत्सव है। यहाँ खेल ही नहीं होते, राष्ट्र चरित्रों का परीक्षण होता है, जिसमें एक युवा भारतीय ने समूचे विश्व को ‘उन ५२ सेकंड’ जन गण मन की धुन पर झूमने का अवसर दे दिया।

वात्सल्य परिवार की ओर से अनंतकोटि शुभकामनाएं!!

जय हो, विजय हो!!
वीरभोग्या वसुंधरा!!